देश में स्वाइन फ्लू से 663 लोगों की मौत

Swain
Share the joy
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली,१९/२ः देश भर में स्वाइन फ्लू के कारण जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 663 हो गई है तथा इससे प्रभावित लोगों की संख्या 10 हजार को पार कर गई है। इस बीच इस रोग ने नगालैंड जैसे राज्यों तक अपने पांव पसार दिए हैं।

आंकड़ों से संकेत मिल रहे हैं कि इस वायरस से प्रभावित लोगों की संख्या में कोई कमी नहीं आ रही है क्योंकि 16.17 फरवरी के बीच 39 और लोगों की जान गई है।
स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि दवाओं की कोई किल्लत नहीं है तथा अस्पताल स्वाइन फ्लू से निबटने में सक्षम हैं। मंत्रालय ने कहा कि राज्यों की तरफ से दवा, परीक्षण किट्स या अन्य आवश्यक समान को लेकर कोई मांग नहीं आई है।
केन्द्र सरकार के अनुसार वर्तमान वर्ष में अभी तक एच1एन1 वायरस से 10025 लोग प्रभावित हुए हैं।
केन्द्र एवं राज्यों से आ रहे आंकड़ों में भी कुछ विसंगतियां प्रतीत हो रही हैं। केन्द्र सरकार के आंकड़ों से पता चलता है कि इस साल जम्मू कश्मीर में इस वायरस से प्रभावित होने वाले लोगों की संख्या महज तीन है जबकि राज्य के एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि कम से एक एक व्यक्ति की जान गई है जबकि 70 लोगों में इस रोग की पुष्टि हुई है।
श्रीनगर में शेर ए कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइसेंज के निदेशक शौकत जरगर ने बताया, ‘अभी तक एच1एन1 वायरस से पीड़ित दो रोगियों की जान जा चुकी है तथा 71 अन्य रोगियों में इस वायरस की पुष्टि हुई है और उनका उपचार चल रहा है।’
उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति की मौत की पुष्टि इसी वायरस के कारण हुई है जबकि एक अन्य महिला रोगी को हृदय संबंधी गंभीर रोग भी था और उसकी इन रोगों के कारण मृत्यु हुई। नगालैंड में भी पहले ऐसे मामले की पुष्टि हुई। एक महिला में इस वायरस की पुष्टि हुई है।
स्वाइन फ्लू के कारण बुरी तरह प्रभावित राज्यों में राजस्थान, गुजरात एवं मध्यप्रदेश शामिल हैं, जहां इस रोग से क्रमश: 183, 155 एवं 90 लोगों की जान जा चुकी है। पंजाब में इससे 26 जबकि पड़ोसी राज्य हरियाणा में 17 जानें जा चुकी हैं। उत्तरप्रदेश में छह लोगों की जान गई है जबकि पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 114 हो गई है।
इस बीच अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा कि विश्वविद्यालय से जुड़े लोगों में आठ मामलों की पुष्टि हुई है। इससे परिसर में 25 फरवरी तक सभी कक्षाओं एवं शैक्षणिक गतिविधियों को निलंबित करना उचित साबित हुआ।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने प्रयास तेज करते हुए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान चिकित्सा संस्थान (एम्स) में एक नई परीक्षण सुविधा शुरू की है। साथ ही राष्ट्रीय चिकित्सा नियंत्रण केन्द्र में 24 घंटे निगरानी प्रकोष्ठ चल रहा है।
मंत्रालय ने आज एक बयान में कहा, ‘स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेषज्ञ दलों ने तेलंगाना, गुजरात एवं राजस्थान राज्यों का दौरा किया है और उन्हें तकनीकी सहायता दी है। ऐसे दो दलों को आज मध्यप्रदेश एवं महाराष्ट्र रवाना किया गया।’
स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों से कहा है कि ऐसी मौतों के बारे में अध्ययन करवाया जाए जिसमें इस पर गौर किया जाए कि किस आयु वर्ग, किन क्षेत्रों और किन परिस्थितियों में ऐसी मौतें हुई।
इस बीच, दिल्ली सरकार ने सभी निजी प्रयोगशालाओं को आज निर्देश दिया कि वे इस वायरल रोग के परीक्षण करने के लिए 4500 रुपए से अधिक का प्रभार न वसूल करें। सरकार का यह कदम विभिन्न रोगियों की इन शिकायतों के बाद उठाया गया कि शहर की निजी प्रयोगशालाओं में इन परीक्षणों के लिए मनमाना धन वसूल किया जा रहा है।

गुजरात में स्वाइन फ्लू से 167 लोगों की मौत : गुजरात में स्वाइन फ्लू से आज 12 और लोगों की जान चली गयी और इस साल इस बीमारी से मृतक संख्या 167 हो गई है।
आज राज्यभर में स्वाइन फ्लू के 255 नए मामले भी दर्ज किए गए। इस बीमारी के कुल मामलों की संख्या 2191 तक पहुंच गई है। 12 मौत के मामलों में से चार अहमदाबाद जिले से आए। वड़ोदरा, गांधीनगर और कच्छ से दो-दो मामले और सूरत तथा भावनगर जिलों से इस बीमारी से मौत का एक-एक मामला सामने आया।
पंजाब में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 26 और हरियाणा में 17 : स्वाइन फ्लू से पंजाब में आज तीन और लोगों की मौत हो गई। इसी के साथ राज्य में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 26 हो गई है, जबकि हरियाणा में इस संक्रमण की वजह से दो और मौतें हुईं हैं और यहां कुल 17 लोगों की मौत हो चुकी है।
पंजाब के एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम के निगरानी अधिकारी दीपक भाटिया ने बताया कि ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब में एच1एन1 संक्रमण से अबतक 26 लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा मौतें अमृतसर जिले में हुई हैं।
अधिकारी ने बताया कि राज्य के स्वाइन फ्लू के 165 से ज्यादा संदिग्ध रोगियों में से जांच में 71 एच1एन1 संक्रमण से ग्रस्त पाए गए हैं।
हरियाणा की अतिरिक्त महानिदेशक स्वास्थ्य सेवा : डॉ कमला सिंह ने बताया कि हरियाणा में स्वाइन फ्लू से इस साल अब तक 17 लोगों की जानें जा चुकी हैं और इस बीमारी से पीड़ितों की संख्या 116 पहुंच गई है।
भाटिया ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा स्वाइन फ्लू के संबंध में राज्यों को जारी किए गए दिशानिर्देशों के अनुसार स्वास्थ्यकर्मियों से कहा गया है कि लोगों की गहन जांच करें और ऐसे लोगों को अलग से श्रेणीबद्ध करें जिनमें इसके लक्षण पाए गए हैं ।
भाटिया ने बताया कि निजी और सरकारी दोनों तरह के विद्यालयों को परामर्श जारी किया गया है कि जिन छात्रों में स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखें, उन्हें पांच दिन की छुट्टी पर भेज दिया जाए।
उन्होंने कहा कि शैक्षणिक संस्थानों के लिए जारी दिशा निर्देशों के मुताबिक, सभी कॉलेजों और स्कूलों के छात्रों की रोजाना के आधार पर जांच की जा रही है। दोनों राज्यों के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि स्थिति अभी नियंत्रण में है और अस्पतालों में सभी सुविधाएं मौजूद हैं।

 

 

Comments

comments