इंडिया का योग,मेक इन इंडिया का नारा,चटाइयां मेड इन चायना…

नई दिल्ली, २०/६ ः  योग दिवस को लेकर एक नया विवाद पैदा हो गया है। ये विवाद है चीनी चटाई को लेकर बाजार में 95 फीसदी चाइनीज चटाइयां हैं और महज पांच फीसदी भारतीय चटाईयों का बाजार है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के लिए भी बडी संख्या में लोग “चाइना मैट” ही खरीद रहे हैं।कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने अब आरोप लगाया है कि पीएम मोदी बात तो मेक इन इंडिया की करते हैं लेकिन योग दिवस के लिए स्वदेशी चटाई तक का इंतजाम नहीं कर पाये। इन्ही चटाइयों को लेकर कांग्रेस और आप मोदी के मिशन मेक इन इंडिया पर सवाल उठा रही हैं। दरअसल योग दिवस के मौके पर सरकार जिन चटाईंयों का इस्तेमाल करने जा रही है, उसमें से ज्यादातर चटाइयां चीन से मंगाई गई हैं। आयुष विभाग ने चटाइयों की सप्लाई के लिए बकायदा टेंडर मंगाया था और जिस कंपनी ने सबके कम कीमत पर चटाई देने का टेंडर भरा, उसे सप्लाई का ऑर्डर दिया।

मतलब चटाई मंगाने की नीति में कुछ भी गलत नहीं हैं लेकिन कांग्रेस और आप सवाल उठा रही है कि जब मोदी सरकार को चीन से ही सामान मंगाना था तो फिर वो झूठ-मूठ मेक इन इंडिया का नारा क्यों देती है। कांग्रेस सांसद राज बब्बर ने इसका कडा विरोध किया।

Comments

comments