नेपाल:फिर भूकंप के झटके,और 50 शव, बडे विमानों पर रोक

काठमांडू,३/५ः नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप और उससे फैली तबाही के करीब एक सप्ताह बाद रविवार को भी यहां विभिन्न हिस्सों में भूकंप के तीन झटके महसूस किए गए। टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार शाम 5 से 6 बजे के बीच भी नेपाल के कई हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। राष्ट्रीय भूकंप केंद्र के अनुसार रविवार तडके 3.29 बजे भूकंप का पहला झटका महसूस किया गया जिसका केंद्र सिंधुपालचौक जिले में पाया गया। इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.5 आंकी गई। इसके बाद दो और झटके महसूस किए गए, जिनकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर चार आंकी गई। इन झटकों का केंद्र धडिंग और गोरखा जिलों में पाया गया।
अधिकारियों ने बताया, तडके 4.25 बजे भूकंप का दूसरा झटका महसूस किया गया जिसका केंद्र धडिंग जिले में पाया गया जबकि त़डके 5.57 बजे तीसरा झटका महसूस किया गया जिसका केंद्र गोरखा जिले में था। राष्ट्रीय भूकंप केंद्र के लोक विजय अधिकारी ने कहा, जब कोई बडा भूकंप आता है, तो उसके सप्ताह भर बाद तक झटके महसूस किए जाते हैं। लोगों को घबराना नहीं होना चाहिए।काठमांडू में बडे विमानों के उतरने पर रोक…
काठमांडू स्थित अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे ने एक नोटिस जारी कर भूकंप पीडितों के लिए राहत सामग्री लेकर आ रहे बडे विमानों के उतरने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के प्रमुख महेंद्र सिंह रावल ने बताया,भूकंप के बाद बडे विमानों को काठमांडू के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरने की इजाजत दी गई थी, लेकिन रनवे पर गड्ढे बन जाने के कारण अब बडे विमानों को प्रतिबंधित किया गया है।

इसबीच, नेपाल के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता लक्ष्मी प्रसाद ढकाल ने उन खबरों का खंडन किया है, जिनमें कहा गया था कि हवाई अड्डे के रनवे पर क्रैक हैं। इससे पहले समाचार एजेंसी एपी और कांतिपुर के हवाले से खबरे आई थी कि काठमांडू के हवाई अड्डे के रनवे पर क्रैक हैं और बडे विमानों के उतरने पर प्रतिबंध लगाया गया है। गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ढकाल ने कहा कि काठमांडू हवाई अड्डे पर छोटे और मध्यम आकार के विमान पहले की तरह हवाई अड्डे पर उतरते रहेंगे। हवाई अड्डे के मुख्य सुरक्षा अधिकारी बिजय लाल कायस्थ का कहना है कि रनवे पर क्रैक के दावे निराधार हैं। कायस्थ ने कहा, सब कुछ बेहतर तरीके से चल रहा है और अगर रनवे पर क्रैक होते तो हवाई अड्डे का संचालन सभी तरह के विमानों के लिए रोक दिया जाता।
50 शव और मिले …
नेपाली पुलिस के एक दल ने देश में हाल ही में आये विनाशकारी भूकंप के बाद हुए हिमस्खलन के मलबे में दबे 50 शवों को शनिवार को बाहर निकाला। इनमें से कई शव विदेशी पर्वतारोहियों के भी हैं। इस प्रकार नेपाल में भूकंप में मरने वालों की संख्या सात हजार के पार पहुंच गयी है। खोजी दल की अगुवाई कर रहे पोखरल के पुलिस उपाधीक्षक प्रवीन पोखरल ने रविवार को बताया कि बरामद शवों की अभी शिनाख्त नहीं हो पायी है। जिले के वरिष्ठ अधिकारी उद्धव भट्टराई ने बताया कि अब भी इलाके में 200 से अधिक लोग लापता हैं जिनमें स्थानीय लोग और पर्वतारोही शामिल हैं।
उन्होंने कहा कि खराब मौसम और बारिश के चलते हम इस इलाके पर पहले नहीं पहुंच पाए। सरकार की तरफ से जारी एक बयान के अनुसार भूकंप से मरने वालों की संख्या सात हजार के पार हो गयी है तथा घायलों की संख्या 14 हजार के पार पहुंच गयी है। इस बीच अमेरिकी नौसेना के प्रवक्ता ने जानकारी दी कि राजधानी काठमांडू के बाहरी आपदा प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों के लिए मदद लेकर अमेरिकी जहाज और सैनिक आज यहां पहुंच गये हैं। अमेरिकी बचाव दल में सेना के करीब 100 जवान , छह विमान और दो हेलीकॉप्टर शामिल हैं।

Comments

comments